अमूल कैसे बनी भारत की सबसे बड़ी दूध की कंपनी?

 

अमूल कैसे बनी भारत की सबसे बड़ी दूध की कंपनी?

अमूल कैसे बनी भारत की सबसे बड़ी दूध की कंपनी?
- वर्तमान समय में पूरे भारत में अमूल कंपनी के दूध एवं डेयरी प्रोडक्ट्स की डिमांड काफी अधिक रहती है। जब भी भारत में कभी सबसे बड़ी दूध की कंपनी का नाम आता है तो अमूल का नाम सबसे पहले लिया जाता है। बहुत सारे लोग यह सोचते हैं कि आखिर अमूल भारत की सबसे बड़ी दूध की कंपनी कैसे बन गई? यदि आपके मन में भी यह सवाल उठता है तो इस आर्टिकल में हम आपके सवाल का उपयुक्त जवाब देने जा रहे हैं। साथ ही हम यह भी बताएंगे कि अमूल का फुल फॉर्म क्या है? अमूल कंपनी का मालिक कौन है? अमूल की फ्रेंचाइजी कैसे लें?

अमूल कंपनी की शुरुआत कैसे हुई?

अमूल कंपनी की शुरुआत होने के पीछे भी काफी बड़ी कहानी है। दरअसल भारत को कृषि प्रधान देश कहा जाता है और यदि आजादी से पहले की बात करें तो यहां पर कृषि के अलावा कोई बड़ा उद्योग नहीं हुआ करता था। उस समय गुजरात में पॉल्सन डेयरी हुआ करती थी, जो दूध उत्पादकों से दूध खरीद कर बड़े लोगों के घर सप्लाई किया करती थी। पॉल्सन डेयरी ने दूध उत्पादकों का काफी शोषण भी किया था क्योंकि वह उन्हें दूध की सही कीमत नहीं देते थे।

Read More - वेटर K.Jay Ganesh बना ias अफसर Success Story 

इसके बाद लोगों ने नॉन कारपोरेट आंदोलन शुरू कर दिया जिसमें सरदार वल्लभ भाई पटेल ने भी साथ दिया था। जिसके बाद 14 दिसंबर 1946 को गुजरात के आनंद में अमूल की शुरुआत हुई। शुरुआत में इस के सिर्फ 2 फ्रेंचाइजी थे, जहां पर 200 लीटर से लेकर 250 लीटर दूध आते थे और वहां से लोग दूध खरीदा करते थे। धीरे धीरे इस पर लोगों का भरोसा बढ़ते गया और यह भारत की सबसे बड़ी दूध कंपनी बन गई।

अमूल कंपनी का मालिक कौन है?

भारत में बहुत सारे लोग यह समझते हैं कि अमूल कंपनी के मालिक वर्गीज कुरियन हैं। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्गीज कुरियन ने बाद में अमूल कंपनी को ज्वाइन किया था। अमूल कंपनी के संस्थापक त्रिभुवनदास कृषि भाई पटेल थे। हालांकि यह एक पब्लिक कंपनी बन चुकी है जिसमें कई लोगों का शेयर लगा हुआ है। इतना ही नहीं आम जनता भी इसके शेयरों में निवेश करती है। इसीलिए यह कहा जा सकता है कि इसका कोई एक मालिक भी है।

अमूल का फुल फॉर्म क्या है?

बहुत सारे लोग ऐसा सोचते हैं कि अमूल कोई एक नाम है जबकि ऐसा नहीं है। दरअसल AMUL का फुल फॉर्म आनंद मिल्क यूनियन लिमिटेड (Anand Milk Union Limited) है। जब गुजरात के दुग्ध उत्पादकों ने पॉल्सन डेयरी के खिलाफ नान कारपोरेट आंदोलन शुरू किया था इसके बाद ही इस कंपनी की शुरुआत हुई ताकि इससे दुग्ध उत्पादकों का भरोसा जीता जा सके।

अमूल भारत की सबसे बड़ी दूध कंपनी कैसे बनी?

अमूल को भारत की सबसे बड़ी दूध कंपनी बनाने में वर्गीज कुरियन का बहुत बड़ा हाथ रहा। दरअसल वर्गीज कुरियन को भारत में श्वेत क्रांति का जनक माना जाता है। वर्गीज कुरियन ने अमेरिका के मिशिगन यूनिवर्सिटी से मास्टर आफ साइंस की डिग्री हासिल की थी और अच्छी नौकरी कर रहे थे। अमूल के संस्थापक त्रिभुवनदास कृषि भाई पटेल ने वर्गीज कुरियन को अमूल ज्वाइन करने के लिए आमंत्रित किया था। उनके आमंत्रण पर वर्गीज कुरियन भारत आए और अमूल को ज्वाइन किया।

अमूल के सामने सबसे बड़ी चुनौती पॉल्सनन डेयरी थी। लेकिन पॉल्सन डेयरी की सबसे बड़ी कमजोरी यह थी कि वह बिचौलियों से दूध खरीदा करते थे। व बिचौलिए दुग्ध उत्पादकों को कम दाम दिया करते थे और पॉलसन डेहरी को बेचा करते थे। इसी को देखते हुए वर्गीज कुरियन ने खुद किसानों से बात की और उन्हें अमूल के फ्रेंचाइजी में सीधे दूध बेचने को कहा। दुग्ध उत्पादक इस बात से राजी हुए और अमूल के पास सीधा दूध बेचने लगे इससे उन्हें अधिक कीमत भी मिलने लगी और उनका शोषण भी बंद हो गया। इस तरह से धीरे-धीरे अमूल भारत की सबसे बड़ी दूध कंपनी बन गई।

अमूल की फ्रेंचाइजी कैसे शुरू करें?

यदि आप अमूल की फ्रेंचाइजी शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले आपके पास 200 स्क्वायर फीट से लेकर 300 स्क्वायर फीट की जमीन एवं एक कमरा होना जरूरी है। इसके अलावा आपके पास एक फ्रिज भी होना जरूरी है ताकि आप सभी दूध से बने प्रोडक्ट को रख सकें। इसके बाद अमूल पार्लर खोलने के लिए आपके पास कम से कम ₹200000 होना आवश्यक है। यदि आप अमूल पार्लर अमूल फ्रेंचाइजी या अमूल आउटलेट ओपन कराना चाहते हैं तो आपके पास कम से कम ₹600000 होने चाहिए। इसके बाद आप इसके जरिए दूध एवं दूध से बने प्रोडक्ट बेच कर अच्छा पैसा कमा सकते हैं।


Previous
Next Post »

Hello Friends,Post kaisi lagi jarur bataye aur post share jarur kare. ConversionConversion EmoticonEmoticon