जीवन में हमेशा खुश कैसे रहें ! How to always be happy in life

जीवन में हमेशा खुश कैसे रहें ! How to always be happy in life

किसी भी मनुष्य के पास चाहे जितना भी धन हो,सोना- चांदी हो,घर-परिवार हो लेकिन अगर जीवन में खुशी या सुख ना हो तो सब व्यर्थ है अच्छा जीवन जीने के लिए खुशी का होना बेहद जरूरी है इस पोस्ट में 'जीवन में हमेशा खुश कैसे रहें' के बारें में जानकारी दी जा रही है
जीवन में हमेशा खुश कैसे रहें ! How to always be happy in life
Jivan Me Hamesha Khush Kaise Rahe

जीवन में हमेशा खुश कैसे रहें ! How to always be happy in life

जीवन का सबसे बड़ा खजाना है 'अच्छा स्वास्थ्य' यानी चुस्त-दुरुस्त रहना और आलस्य ना करना । बिना अच्छे स्वास्थ्य के आप कभी खुश नहीं रह सकते । एक हल्का सा दर्द या पीड़ा आपको विचलित कर सकती है इसलिए सदा स्वस्थ रहें । हम जो खाते हैं उसी से हमारे शरीर की कोशिकाओं का पोषण होता है यदि जंक फूड खाएंगे तो कुछ दिनों में आपका शरीर भी जंक हो जाएगा जिससे कई तरह की बीमारी हो जायेगी और हजार खुशी होने के बावजूद आप कभी खुश नहीं रह पायेंगे ।

स्वस्थ रहने पर हमारी ऊर्जा का स्तर बढ़ा-चढ़ा रहता है और योग्यता भी पूर्ण प्रकाशित रहती है तभी हम उत्पादक काम कर सकते हैं और आप खुश रह पायेंगे 

पैसे से खुशी तो नहीं खरीदी जा सकती है पर पैसे के बिना आप खुश भी नहीं रह सकते,एक पुरानी कहावत है कि आप अपने पैसे का ध्यान रखें तो नोट स्वयं को संभाल लेंगे । यह एक बुद्धिमान की नीति है कि चाहे भले ही आपके पास पैसा हो पर कभी फिजूलखर्ची ना करें क्योंकि आपके जरूरत के समय आपको बचाने कोई नहीं आएगा । इसका मतलब यह नहीं कि आप स्वयं को असंतुष्ट रखें, पर यह भी ख्याल रखें कि आप किसी दूसरे को दुःख या कष्ट ना दें ।

सुखी रहने का अपना लक्ष्य बना लें और एक योजना बना लें की आप वही करेंगे जो आपको सुख देता हो या खुश रखता हो ।

हर एक का खुश रहने का अपना-अपना अलग मापदंड होता है हर एक की जिंदगी में असफलताएं और अत्यन्त दुःख भरी घटनाएँ होती रहती हैं पर कभी दूसरों से अपनी तुलना ना करें और ना सोचे कि वह आपसे ज्यादा सुखी हैं

सदा प्रसन्न चित्त रहने वाले लोगों के साथ रहे । दुःख की तरह सुख भी शीघ्र प्रभावी होता है सुखी रहने के लिए हंसमुख लोगों का साथ अपनाएं । जीवन तो वैसे ही चलता है जैसा हम उसे चलाते हैं यदि कोई परेशानी आए तो उसका हल ढूढ़े ना कि स्वयं पर तरस खाए । अगर हमने दिन में 10 काम किए हैं तो हो सकता है कि उनमें कुछ गलत भी होंगे उन्हें सुधारें और वह साधन चुनें जो आपको सुख देते हैं और उन्हीं का पालन करें

सुखी और प्रसन्न रहने के लिए हर एक के अपने-अपने तरीके होते हैं जब आप आनंद उठा रहे हो तो कभी अपनी परेशानियों में ना उलझें रहे । कुछ लोग किसी झगड़े या फसाद के बाद उपन्यास व चुटकुलों की पुस्तकें पढ़कर स्वयं को सामान्य करते हैं हर एक का अपना-अपना तरीका होता है हो सकता है किसी और का तरीका आपको पसंद ना आए या आप के तरीके भी उन्हें सही ना लगे हमारा सुख हमारे विचारों पर निर्भर रहता है ।

हमारे पास उपलब्ध या अनुपलब्ध साधन हमें खुश या ना खुश नहीं करते,यह तो हमारे सोचने के ढंग पर निर्भर होता है

हमें जीवन ने जिस हालात में डाला है उसे सहज रूप से स्वीकार करना जरूरी है जिस पर हमारा कोई वश ही ना चलता हो जैसे मौसम, जलवायु, करीब के मित्र उनके लिए चिंता करने का कोई औचित्य ही नहीं होता । जीवन में अपने विचारों पर अवसाद को हावी ना होने दें सकारात्मक सोच रखें और बुरी से बुरी हालत में भी अच्छे से अच्छे की कल्पना करते रहें त्रासदियां तो सबके जीवन में घटित होती रहती है जैसे-घनिष्ठों की मृत्यु,आदमियों का विश्वासघात, मित्रों की बेजारी आदि यह एक कटु वास्तविकता है और हम चाहे कितना भी चिंतित हो,कितना भी रोए,कितना भी कष्ट सहे पर इससे बचाव असंभव है

जीवन में बगैर दुःख,अवसाद और निराशा के हम समझ ही नहीं सकते कि 'खुशी क्या होती है' अंधेरा-उजाला,सुख-दुःख,दिन-रात ये सब होता ही रहता है हम ना तो भविष्य को आने से रोक सकते हैं ना ही वापस पलट कर अतीत में जा सकते हैं हमारे पास तो जीने को वर्तमान ही होता है इसलिए जीवन में जो हम सर्वोत्तम कर सके वह करें क्योंकि हमारे पास यही एक विकल्प होता है


"इस पल में खुश रहो,यहीं एक पल आपका जीवन है"

जीवन में आने वाली समस्याओं को मात्र 'अस्थायी रुकावट' ही समझें और उनसे बिल्कुल भी विचलित ना हो उनको सहज रूप से ही लें। बिना परेशान हुए और लगातार उन पर दबाव बनाया जाए तो उनके छूमंतर होने में भी देर नहीं लगती ।

जितना आप खुश रहेंगे उतना ही आपकी योग्यता बढ़ेगी और स्वयं पर विश्वास में भी इजाफा होगा । यह समझ ले कि योग्यता और प्रसन्नता घनिष्ठ मित्र हैं इस योग्यता में शामिल हैं आपकी व्यवहार कुशलता संबंधों के परिचय में अपना काम पूरी तन्मयता और लगन से करना । 

एक पुरानी कहावत है कि रोम तो एक दिन में नहीं बना था अर्थात कोई महान काम, उत्तम कलाकृति,बड़ी-बड़ी इमारतें रातों रात नहीं बनती इसी तरह से आप अपने व्यवसाय में एक दिन में ही शीर्ष स्थान पर नही पहुँच सकते हैं एक बच्चे को जवान होने में कई वर्ष लगते हैं शीर्षस्थ की प्राप्ति तो जीवन भर की तपस्या होती है किसी शिक्षक ने कहा था कि यदि आप में कोई गुण ना भी हो,तो भी आप मान लें कि वह  है और उसी के अनुसार काम करें यह सिद्धांत हम सभी पर लागू होता है अगर हम खुश, प्रसन्न या प्रफुल्लित नहीं भी है तो भी मान लें कि आप खुश हैं और कुछ देर बाद आप वाकई में हो जाएंगे 

"जिंदगी में खुश रहकर जियो,क्योंकि रोज शाम को सिर्फ सूरज ही नहीं ढलता,आपकी अनमोल जिंदगी भी ढलती है"

यह भी पढ़ें :-
● Best Positive Thoughts in hindi जो आपको सफल बना दें


दोस्तों ! मुझे आशा है कि हिंदी में दी गई "जीवन में हमेशा खुश कैसे रहें" आपको पसन्द आये होंगें फिर भी आपके मन में कोई सवाल है तो Comment करके जरूर बताइए मैं उसका जवाब देने की पूरी कोशिश करूँगा कृपया इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ share अवश्य करें




Previous
Next Post »

2 comments

Click here for comments
Ankita Singh
admin
July 15, 2020 at 12:50 PM ×

बहुत बहुत धन्यवाद सर , मै आपकी daily reader हूँ....आप बहुत अच्छा लिखते हो और सभी पोस्ट में काफी helpful जानकारी देते है ...thank you sir

Reply
avatar

Hello Friends,Post kaisi lagi jarur bataye aur post share jarur kare. ConversionConversion EmoticonEmoticon