रिक्शे वाले का बेटा गोविन्द जायसवाल बना IAS अफसर Success Story

रिक्शे वाले का बेटा गोविन्द जायसवाल बना IAS अफसर(SUCCESS STORY) :-

रिक्शे वाले का बेटा गोविन्द जायसवाल बना IAS अफसर Success Story
Ias-struggle-govind-jaiswal-story

Govind Jaiswal Success Story Hindi :-                                                    


हम आपको ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने बिना किसी सुख-सुविधा के संघर्ष करके IAS अफसर बने हैं उस व्यक्ति का नाम गोविन्द जायसवाल है ये वाराणसी में काशी के रहने वाले है

गोविंद जायसवाल काशी के अलईपुरा में रहते थे इनके पिता का नाम नारायण जायसवाल था जो रिक्शा चलाते थे गोविंद जायसवाल को IAS अफसर बनाने में इनके पिता नारायण जायसवाल का बहुत संघर्ष है 

गोविंद का पूरा परिवार 10/12 की एक कोठरी में रहता था  गोविन्द ,दो बहन और इनके पिता एक साथ एक कोठरी में रहते थे इस छोटी सी जगह में नहाने धोने से लेकर खाने-पीने का सब काम यहीं पर करते थे पहनने के लिए कपड़े नहीं थे बहन को लोग दूसरों के घर बर्तन मांजने की वजह से ताने देते थे गोविंद की मां की बीमारी से मौत हो गई थी  इनके पिता के पास साल 1995 में करीब 35 रिक्शे थे पत्नी के बीमारी पर 20 रिक्शे बेंच दिये थे 

गोविन्द अपनी पढ़ाई और किताबों का खर्च निकालने के लिए क्लास 8 से ही ट्यूशन पढ़ाने लगे । बचपन से ही गोविंद को पढ़ाई लिखाई करने पर लोगों के ताने सुनने पड़ते थे " चाहे तुम जितना पढ़ लो चलाना तो रिक्शा ही है " पर गोविंद  इन सब के बावजूद पढ़ाई में जुटे रहते थे 

रात में पढ़ाई के लिए अक्सर मोमबत्ती ढिबरी इत्यादि का सहारा लेना पड़ता था  गोविंद जहां पर रहते थे उस गली में जनरेटर इत्यादि का काफी शोर होता था इसलिए वह कान में रुई डाल कर पढ़ाई करते थे

गोविंद ने बताया बचपन में एक बार एक दोस्त के घर खेलने गया था उसके पिता ने मुझे कमरे में बैठा देख कर बेइज्जत कर घर से बाहर कर दिया और कहा दोबारा घर में घुसने की हिम्मत न करना उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि मैं रिक्शे वाले का बेटा हूँ उस समय मेरी उम्र 13 साल थी लेकिन उस दिन मैंने ठान लिया कि मैं IAS  ही बनूंगा क्योंकि यह सबसे ऊंचा पद होता है 

12वीं के बाद इंजीनियरिंग करने का विचार आया लेकिन जब पता चला कि application form की फीस ₹500 है तब मैंने अपना विचार बदल दिया और BHU से ग्रेजुएशन करने लगे और Final Preparation के लिए दिल्ली चले गए ।

गोविन्द के पिता ने 2004-2005 में गोविंद की सिविल की तैयारी के लिए दिल्ली भेजने के लिए बाकी रिक्शे भी बेंच दिये पढ़ाई में कोई कमी न हो इसलिए एक रिक्शा वह खुद चलाने लगे । 2006 में पैर में टिटनेस हो गया लेकिन यह बात गोविंद को नहीं बताई । पिता का ख्याल रखने के लिए बहन बारी-बारी से आया करती थी 

जब गोविंद को Form,किताब और किराए के लिए पैसों की जरूरत पड़ी तो उन्होंने अपनी इकलौती जमीन ₹30000 में बेंच दी गोविन्द के पिता खाना तक यही सोच कर खाते थे कि दो रोटी ज्यादा खाऊँगा तो गोविन्द के लिये खर्च नहीं भेज पाऊँगा गोविन्द भी अपने पिता के संघर्ष को समझा खूब मेहनत की । गोविंद परीक्षा के दौरान लगातार 18 घंटे पढ़ाई करते थे और पैसा बचाने के लिए कई बार खाना भी नहीं खाते थे 

जब रिजल्ट आया तो लोगों के आंखों में आंसू आ गए क्योंकि एक रिक्शे वाले के बेटे ने इतिहास में अपना नाम दर्ज करवा दिया और 24 साल की उम्र में 2006 में 38 वां स्थान लाकर अपने परिवार की जिंदगी बदल दी गोविंद की शादी चंदना नाम की लड़की से हुई जो IPS अफसर है दोनों गोवा में ही पोस्टेड थें

गोविंद जिस कोठरी में रहते थे उस कोठरी में आज भी उनका सामान,बेड,अलमारी रखा हुआ है और कोठारी का किराया भेजते रहते हैं गोविंद का परिवार इस कमरे को लकी मानता है


Watch The YouTube Version 




यह भी पढ़ें :-

1-साईकिल पंचर बनाने वाला वरुन बरनवाल बना IAS अफसर Success Story

दोस्तों,
    हिंदी में दी गई संघर्ष भरी Biography अच्छी लगी हो तो कृपया इस Link को Fallow और Share अवश्य करें

हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कोई त्रुटि लगे या कोई सुझाव हो, तो हमें कमेंट करके सुझाव अवश्य दें


Previous
Next Post »

Hello Friends,Post kaisi lagi jarur bataye aur post share jarur kare. ConversionConversion EmoticonEmoticon